The Trees Poem Explanation and Analysis in English Hindi Class 10 English

Poem ‘The Trees’ is a poem by Adrienne Rich. Stanza wise and line by line explanation and analysis of the poem is give here in both English and Hindi together with word meanings.

Click here for more study materials

To clear your doubts, feel free to contact us by e-mail or social networklinks.

‘The Trees’ Poem Explanation


Themes of the Poem ‘The Trees’

‘The Trees’ is a poem that conveys different themes on various levels. On a superficial level, the poem contrasts the characteristics of man and nature. man tends to curtail the freedom of nature by cutting off the objects from their natural habitats while nature always tries to get free from the confinement of man.

On a deeper level, the poem indicates the suppression of man over the other genders, particularly women.


Explanation and Analysis of ‘The Trees’

The trees inside are moving out into the forest,
the forest that was empty all these days
where no bird could sit
no insect hide
no sun bury its feet in shadow
the forest that was empty all these nights
will be full of trees by morning.

The poem begins as the poet observes that trees of her home are moving towards the forest, which has been empty for a long time. The poet wants to show that the forest outside is empty, no bird can sit because there are no trees and no insect can hide, even the sunlight could not disappear under the shadows of the trees. As the trees of houses are moving out, the poet feels that by tomorrow morning the forest will be full of trees.

It is important to understand that the trees are not actually moving, but it has been used as an imagery by the poet to show the destroyed forests and the false nature that humans have tried to keep in their houses.

Here, by ‘tress’, the poet metaphorically refers to the women enslaved by the patriarchal society.

कविता शुरू होती है जब कवि देखता है कि उसके घर के पेड़ जंगल की ओर बढ़ रहे हैं, जो लंबे समय से खाली है। कवि यह दिखाना चाहता है कि बाहर जंगल खाली है, कोई पक्षी नहीं बैठ सकता क्योंकि पेड़ नहीं हैं और कोई कीट छिप नहीं सकता, यहां तक ​​कि पेड़ों की छाया के नीचे सूरज की रोशनी भी गायब नहीं हो सकती। जैसे-जैसे घरों के पेड़ निकल रहे हैं, कवि को लगता है कि कल सुबह तक जंगल पेड़ों से भर जाएगा।

यह समझना महत्वपूर्ण है कि पेड़ वास्तव में हिल नहीं रहे हैं, लेकिन कवि द्वारा नष्ट किए गए जंगलों और झूठी प्रकृति को दिखाने के लिए कवि ने इसे एक इमेजरी के रूप में इस्तेमाल किया है जिसे मनुष्यों ने अपने घरों में रखने की कोशिश की है।

यहाँ, ‘पेड़ों’ का प्रयोग कवि रूपक अलंकार की तरह पितृसत्तात्मक समाज के अधीन गुलाम महिलाओं के लिए कर रहा है ।


All night the roots work
to disengage themselves from the cracks
in the veranda floor.
The leaves strain toward the glass
small twigs stiff with exertion
long-cramped boughs shuffling under the roof
like newly discharged patients
half-dazed, moving
to the clinic doors.

The poet says that the trees appear to be working silently during the night to break free and move towards jungle. The roots of the trees are trying to escape through the cracks of the veranda floor. The leaves are trying to push through the hard glass so they could break it. Even the small twigs have become hard by applying this much pressure. The branches of the trees have shrunk because in the confines of a house they cannot grow much. They are trying to move slowly and looking like half asleep and half-shocked newly discharged patients, coming out of hospital to face the outside world.

Here, the poet has compared the branches with the newly discharged patients, who move towards the door of the clinic and are still half-dazed, under the effects of some medicines or anaesthesia. The branches struggle in the same way as the patients in order to free themselves from the clinic.

Metaphorically, the branches or the patients are comparisons used for women by the poet. Like branches, the women too struggle to get out of their patriarchal-enslaved condition to attain freedom i.e. to enjoy the same rights as available to men.

कवि कहता है कि ऐसा प्रतीत होता है कि पेड़ रात में चुपचाप मुक्त होकर जंगल की ओर बढ़ने के लिए काम कर रहे हैं। बरामदे के फर्श की दरारों से पेड़ों की जड़ें भागने की कोशिश कर रही हैं। पत्ते सख्त कांच को धक्का देने की कोशिश कर रहे हैं ताकि वे इसे तोड़ सकें। इतना दबाव डालने से छोटी टहनियां भी सख्त हो गई हैं। पेड़ों की शाखें सिकुड़ गई हैं क्योंकि घर सीमित क्षेत्र में होता है जिसमे में वे यानि पेड़ ज्यादा नहीं बढ़ सकते। वे धीरे-धीरे आगे बढ़ने की कोशिश कर रहे हैं उन नए डिस्चार्ज किए गए मरीजों की तरह दिख रहे हैं, जो बाहरी दुनिया का सामना करने के लिए अस्पताल से बाहर आ रहे हैं ओर अभी वो आधे-अधूरे से अपने पूरे होश ओर सामान्य स्थिति में नहीं है।

यहां, कवि ने शाखाओं की तुलना नए डिस्चार्ज किए गए रोगियों के साथ की है, जो क्लिनिक के दरवाजे की ओर बढ़ते हैं और अभी भी कुछ दवाओं या संज्ञाहरण के प्रभाव में आधे-अधूरे हैं से अपने पूरे होश ओर सामान्य स्थिति में नहीं है क्योंकि बीमारी से ठीक होने के बाद वो काफी दिन बाद अपनी दुनिया में वापस जा रहे है। । क्लिनिक से खुद को मुक्त करने के लिए शाखाएं मरीजों की तरह ही संघर्ष करती हैं।

यहाँ शाखाओं या रोगियों की तुलना कवि द्वारा महिलाओं के लिए की गई है। शाखाओं की तरह, महिलाएं भी स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए अपनी पितृसत्तात्मक दासता की स्थिति से बाहर निकलने के लिए संघर्ष करती हैं यानी पुरुषों को उपलब्ध अधिकारों का आनंद लेने के लिए उन्हे ये बेड़ियाँ तोड़नी पड़ रही हैं जो पुरुष समाज ने ऊन्हे पहनाई हुई हैं। ।


I sit inside, doors open to the verandah
Writing long letters
In which I scarcely mention the departure
of the forest from the house.
The night is fresh, the whole moon shines
in a sky still open
the smell of leaves and lichen
still reaches like a voice into the rooms.

The poet sits in her house, writing long letters, with the doors of house opening to the Veranda. She mentions in her letters, the trees that are moving out to the empty forest. It is a full moon night where the moon is shining in the open sky as there are no trees to obstruct or filter it on the earth. The night is very fresh. The smell the leaves and lichens coming from the trees so were prominent in his room that they reach her like a voice.

The poet didn’t mention the departure or struggle of the trees in her letters. This shows her indifference towards the struggle of the trees. Here, the poet metaphorically referred to the indifferent attitude of the society towards the hard struggle of women to get their freedom.

कवि अपने घर में बैठ है, लंबे पत्र लिख रहा है ओर घर के दरवाजे बरामदे में खुलते की तरफ खुले हुए हैं । उसने अपने पत्रों में उन पेड़ों का उल्लेख किया है जो खाली जंगल में जा रहे हैं। यह एक पूर्णिमा की रात होती है जब चंद्रमा खुले आकाश में चमक रहा होता है क्योंकि पृथ्वी पर इसे रोकने या छानने के लिए कोई पेड़ नहीं हैं। रात बहुत तरों-ताज़ा है। पेड़ों से आने वाली पत्तियों और लाइकेन की गंध उसके कमरे में इतनी प्रमुख थी कि वे एक आवाज की तरह उसके पास पहुँचती थीं।

कवि ने अपने पत्रों में पेड़ों के जाने या संघर्ष का उल्लेख नहीं किया। यह पेड़ों के संघर्ष के प्रति उसकी उदासीनता को दर्शाता है। यहाँ, कवि ने महिलाओं की स्वतंत्रता प्राप्त करने के कठिन संघर्ष के प्रति समाज के उदासीन रवैये का रूपक रूप से उल्लेख किया है।


My head is full of whispers
which tomorrow will be silent.
Listen. The glass is breaking.
The trees are stumbling forward
into the night. Winds rush to meet them.
The moon is broken like a mirror,
its pieces flash now in the crown
of the tallest oak.

The poet listens to all the sounds made by trees while struggling to move away and says that these sounds will not be there in the morning next day. The poet can hear the glass breaking and as it breaks the trees move outside the house hurriedly into the night. As soon as they move out, it seems as if the wind is moving fast towards them to meet them. As they are free, they can finally stand straight and they are so tall that they break the moon into pieces like a broken mirror and its broken pieces sits like crowns on the head of tall oak trees as the twigs and leaves filter its light into pieces.

Here, the poet metaphorically points at the successful struggle of women’s freedom from confinements. The stanza uses the imagery to show the successful journey of the trees that were once cut by man but are now back at their own place, i.e., outside the house, into the forest.

Here, the poet metaphorically points at the successful struggle of women’s freedom from confinements.

The victorious march of the trees gives a message of hope that nature can’t be tamed or subdued by the arrogance of man.

कवि दूर जाने के लिए संघर्ष करते हुए पेड़ों द्वारा की गई सभी हल्की – हल्की सी आने वाली ध्वनियों को सुनता है और कहता है कि ये ध्वनियाँ अगले दिन सुबह नहीं होंगी यहाँ । कवि शीशे के टूटने की आवाज सुन सकता है और जैसे ही वह टूटता है पेड़ घर के बाहर जल्दी-जल्दी रात में जंगलों की तरफ जाते हैं। उनके बाहर निकलते ही ऐसा लगता है कि हवा तेजी से उनसे मिलने के लिए उनकी ओर बढ़ रही है जैसे उनके आने का वो स्वागत कर रही हो। चूंकि अब पेड़ स्वतंत्र हैं तो वे अंत में सीधे अपने पैरों पर खड़े हो सकते हैं और वे इतने लंबे हैं कि वे टूटे हुए दर्पण की तरह चंद्रमा को टुकड़ों में तोड़ते हुए नजर आते हैं यानि चंद्रमा पूरा एक नहीं दिखाई देता है पेड़ों के नीचे से और चंद्रमा के टूटे हुए टुकड़े ऊंचे ओक के पेड़ों के सिर पर मुकुट की तरह बैठे नजर आते हैं जैसे टहनियाँ और पत्ते इसके प्रकाश को टुकड़ों में छान दे रहे हों।

ये छंद उन पेड़ों की सफल यात्रा को दिखाने के लिए इमेजरी का उपयोग करता है जो कभी मनुष्य द्वारा काटे गए थे, लेकिन अब अपने स्थान पर, यानी घर के बाहर, जंगल में वापस आ गए हैं।

यहाँ, कवि लाक्षणिक रूप से महिलाओं की बन्धनों से मुक्ति के सफल संघर्ष की ओर इशारा करता है।

पेड़ों का विजयी मार्च आशा का संदेश देता है कि प्रकृति को मनुष्य के अहंकार से वश में या वश में नहीं किया जा सकता है।


Message of the Poem ‘The Trees’

(1) No object or human in this world can be suppressed for long. People may restrict other’s freedom, growth and development but, the oppressed break free from the confines one day to find their natural place and space.

(2) As Trees are essential for environment, the same way women are also essential for the survival of the humanity.

(3) Both trees and women sustain the environment and generations so, instead of enslaving them, one should help them grow.


Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply